Google का अविष्कार इन हिंदी , Google का अविष्कार किसने किया?

Hello दोस्तो hindikiinfo वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है। आशा करता हूं आप सब बढ़िया और तंदुरुस्त होंगे। दोस्तो हमारा आज का टॉपिक हैं Google का अविष्कार इन हिंदी।

दोस्तो Google आपके लिए नया नहीं हैं और ऐसा भी नहीं हैं कि आपने इसका नाम भी ना सुना हो, या फिर आप इसे इस्तेमाल नहीं करते हो, क्योंकि दोस्तो Google दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे बेहतर सर्च इंजन जो हैं। तो अयिए दोस्तो आज जानेंगे की इसी google का अविष्कार कैसे और किसने किया? बने रहिए इसी पोस्ट के साथ। तो दोस्तो ज्यादा समय न गवाते हुए शुरू करते हैं आज का हमरा ये सफर।

Google का अविष्कार किसने किया ?
Google का अविष्कार किसने किया ?

Google का अविष्कार किसने किया ?

दोस्तो Google एक कंपनी का नाम हैं जो की आज के जमाने में एक सफल बिजनेस में से एक हैं। भले ही ये एक सर्च एंजन हो पर ये अब एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी हैं जिसमे दुनिया का हर एक सॉफ्टवेयर इंजिनियर काम करना चाहता हैं। जैसे कि आप कोई भी जानकारी चाहिए तो आप उसे गूगल कि सर्च इंजन पर टाइप करके ढूंढ सकते हैं। इस पोस्ट कि ही बात करे तो ये भी आपको गूगल पर ही पढ़ने को मिल रही हैं। तो आइए दोस्तो जानते हैं Google का अविष्कार कब हुआ था और किसने किया था ?

लैरी पेज और सर्गी ब्रीन चाहते थे कि इंटरनेट कि सभी वेबसाइट्स को एक साथ लिंक किया जा सके, दोनों मिल कर काफी समय से इस प्रोजेक्ट पर काम करते रहे उनकी 4 साल कि कड़ी मेहनत के बाद 4 सितंबर 1998 में कैलिफोर्निया में उन्होने इस कंपनी कि स्थापना कि। यानी कि हम के सकते हैं कि गूगल का अविष्कार 4 सितंबर 1998 में हुआ था।

दोस्तो Google का नाम गणित के शब्द गोगोल से लिया गया हैं जिसका अर्थ होता हैं एक अंक के सामने सौ शून्य। आगे चलकर इन दोनों ने अपने परिवार, दोस्तो और इन्वेस्टरों से इन्होंने दस लाख डॉलरर्स का कर्ज ले लिया था जिससे इन्होंने 1998 में Google कंपनी कि अस्थापना कि। अपने एक अनोखे कॉन्सेप्ट और अल्गोरिदम कि वजह से बहुत ही जल्द गूगल दुनिया का सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन बन गया।

कंपनी के अस्थपना के कुछ सालो बाद ही 2004 में गूगल के IPO को शेयर मार्केट में डाला गया जहा पर इन्वेस्टरों ने खूब सारा पैसा गूगल में इन्वेस्ट कर दिया। ऐसे ही धीरे धीरे गूगल इंटरनेट के दुनिया कि सबसे बड़ी कंपनी बन गईं। गूगल को बनाने वाले लैरी पेज और सर्गी ब्रिन दुनिया के सबसे युवा अरबपति बन गए। 2006 में गूगल ने यूट्यूब का अधिकरण किया। इसके अलावा 2009 में गूगल द्वारा पहला एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम को लॉन्च किया गया, जो कि आज अरबों मोबाइल्स में कार्यरत हैं। गूगल के पास आज गूगल सर्च इंजन के अलावा भी लगभग 50 प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं जिसका इस्तेमाल आप रोज करते हैं।

Google का CEO कौन हैं?

दोस्तो आपको जानकार हैरानी हो सकती हैं की गूगल जैसे अंतरराष्ट्रीय कंपनी का सीईओ एक भारतीय मूल के अमेरिकी हैं, और साथ में गर्व भी हो रहा होगा। सुंदर पिचाई जो 2 अक्टूबर 2015 में गूगल के सीईओ बन गए, और तो और 3 दिसंबर 2019 को वो अल्फाबेट कंपनी के सीईओ का पद ग्रहण किया।

दोस्तो कहीं लोग अपने रोज के इंटरनेट कि शुरुवात ही गूगल से करते हैं जो की लैरी पेज और सर्गी ब्रिन के दिन रात के मेहनत का नतीजा हैं। इंटरनेट क्षेत्र में उनके योगदान को कोई नहीं भूल सकता। तो दोस्तो आपने आज इस पोस्ट में Google का अविष्कार और दो महान लोगो की मेहनत के बारे में जाना। आशा करता हूं के आप लोगो ने इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ा होगा और आपको ये जानकारी पसंद भी आयि होगी। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अपने सम्बंधित लोगो तक जरूर पोहचा देना। आपका मूल्यवान समय इस पोस्ट को देने के लिए धन्यवाद। ऐसी ही जानकारी के लिए जुड़े रहिए हमरे इस hindikiinfo वेबसाइट पर।

Leave a Comment