IAS फुलफॉर्म इन हिंदी, IAS क्या होता है?,

  Hello दोस्तो hindikiinfo वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है। आशा करता हूं आप सब बढ़िया और तंदुरुस्त होंगे। दोस्तो हमारा आज का टॉपिक हैं IAS फुलफॉर्म इन हिंदी।

       दोस्तो आपने IAS ये शब्द बहुत बार सुना होगा, देखा होगा,जरूर पढ़ा भी होगा? और आप में से कहीं लोग जानते भी होंगे और नहीं भी जानते तो आज कि इस पोस्ट में जान जाओगे। आज हम देखने जा रहे हैं कि IAS फुलफॉर्म इन हिंदी, IAS क्या होता हैं, IAS कैसे बने, IAS कि क्या भूमिका होती हैं। इस सारे सवाल का विस्तृत रूप में जवाब आपको देखने को मिलेगा इस पोस्ट में तो चलिए दोस्तो ज्यादा समय ना गवाते हुए शुरू करते हैं आज का हमारा ये नया सफर। 

 

 IAS फुलफॉर्म इन हिंदी 

  • I – Indian (इंडियन)
  •  A – Administrative (एडमिनिस्ट्रेटिव)
  •  S – Services (सर्विसेस)  

 

       हिंदी में इसे भारतीय प्रशासनिक सेवा कहते हैं। IAS अधिकारी को भारतीय समाज में शक्ति और प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता हैं। IAS अधिकारियों के पास भारत कि सभी सरकारी मशीनरी कि चाबिया होती हैं। अधिकांश राज्यों में शहर के पुलिस अधीक्षक भी आईएएस के तहत ही काम करते हैं। आईएएस अधिकारी के पास होने वाली असीमित शक्तियां इस पद को ज्यादा जिम्मेदार, प्रतिष्ठित बना देती हैं।   इस पद के लिए सही व्यक्ति को चुनना इससे भी बड़ी जिम्मेदारी साबित होती हैं। इसीलिए सिविल सेवा परीक्षा (CSE) कि इस प्रकार से रचना कि गई हैं कि केवल प्रतिभाशाली उम्मीदवार ही इस परीक्षा को पास करके इस पद पर विराजमान हो सके। 

        सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य ग्रेजुएट से लेकर, डॉक्टर, इंजिनियर, वैज्ञानिक सभिनिस प्रतियोगिता में भाग लेते हैं। 6 लाख उम्मीदवारों में से केवल 1000 उम्मीदवार ही चुने जाते हैं। इस परीक्षा में सिलेक्शन होना बहुत ही कठिन काम हैं इसीलिए तो CSE को हमारे राष्ट्र (भारत) कि सबसे कठिन परीक्षा माना जाता हैं।

IAS क्या हैं 

         IAS कि परीक्षा सबसे प्रमुख और सबसे कठिन परीक्षा होती हैं। IAS पोस्ट समाजसेवा करने के लिए सर्वश्रेष्ठ अखिल भारतीय सेवा हैं। UPSC, All india Services और विविध सेंट्रल सिविल सर्विस हर साल Civil Service Examination (CSE) आयोजित करता हैं। पहले से मौजूद आरक्षण श्रेणियों के अलावा UPSC ने भारत सरकार द्वारा Economically Weaker Section (EWS) उम्मीदवारों को आरक्षण प्रदान करने के उदेश्य से Economically Weaker Section एक नई श्रेणी जोड़ दी गई। EWS उम्मीदवारों के लिए पात्रता के नियमों को नहीं बदला गया और सामान्य उम्मीदवारों के पात्रता नियमों कनसाथ गठबंधन किया गया। 

         चाहे वो राज्य सरकार हो या भारत सरकार, शहर होता जिला IAS अधिकारी हर विभाग के मुख्य कहलाते हैं। हर वर्ष फरवरी के महीने में UPSC सिविल सेवा परीक्षा के लिए अधिवेशन जाहिर करती हैं, जिनमें IAS के साथ साथ 24 और केंद्रीय सेवाएं शामिल होती हैं। 

IAS परीक्षा कि पात्रता  

तिब्बत, नेपाल और भूटान के नागरिक भी भारतीय नागरिकों के साथ इस परीक्षा के लिए निवेदन कर सकते हैं, परन्तु IAS और IPS के भर्ती के लिए उम्मीदवार को भारतीय नागरिक होना आवश्यक हैं। 

  • शैक्षणिक पात्रता :  इस परीक्षा के लिए किसी भी विषय में ग्रेजुएट होना जरूरी हैं। ग्रेजुएशन में न्यूनतम गुणों कि कोई आवश्यकता नहीं हैं। परन्तु ग्रेजुएशन कि डिग्री किसी हुई सरकार मान्य विश्वविद्याल से होना चाहिए। परीक्षा का स्वरूप ऐसा रचित किया गया हैं कि विविध पृष्ठभूमि के लोगों को खेल के मैंदान में रखा गया हैं। ग्रेजुएशन में बेहतर अंक वालें उम्मीदवारों कोई फायदा नहीं केवल सिविल सेवा परीक्षा के मामले मायने रखते हैं।  

उम्मीदवार जो अपने ग्रेजुएशन के आखिरी साल में हैं अगर उनको इस परीक्षा के लिए आवेदन करना हैं तो verification के समय अपनी ग्रेजुएशन गुनपत्रिका पुन:प्रस्तुत करेंगे। 

  • आयु योग्यता :  इस परीक्षा के लिए उम्मीदवार कि न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। अलग अलग श्रेणियों के लिए अलग अलग आयु सीमा निर्धारित कि गई हैं। समन्या श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए 32 वर्ष और OBC के लिए 35 वर्ष, एसटी/एनटी  श्रेणी के लिए 37 वर्ष निर्धारित कि गई हैं। 

IAS ऑफिसर को मिलने वाले पद

  1.  जिला कलेक्टर 
  2. आयुक्त 
  3. मुख्य सचिव
  4. सार्वजनिक क्षेत्र कि इकाइयों के प्रमुख 
  5. कैबिनेट सचिव 
  6. चुनाव आयुक्त आदि 

फॉर्म भरने के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य 

       IAS का फॉर्म भरते समय उम्मीदवार को अपनी सभी मूलभूत जानकारी जैसे नाम, पिता का नाम, माता का नाम आदि सब भरना होगा। सिविल सेवा परीक्षा के लिए सेंटर भी सूचित किया जाता हैं, हमरे देश के 72 शहरों के विविध केंद्रों पर यह परीक्षा एक साथ आयोजित कि जाती हैं। 

सबसे महत्वूर्ण बात कि उम्मीदवार को फॉर्म भरते समय सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए एक वैकल्पिक विषय भी चुनना होगा। 26 विषयों में से एक विषय चुनना होगा यह 26 वैकल्पिक विषय अधिसूचना में सूचित किए जाते हैं। फॉर्म भरते समय उम्मीदवार को परीक्षा किस माध्यम में देनी हैं यह भी भरना होगा। IAS के प्रारंभिक परीक्षा में हिंदी के साथ साथ अंग्रेज़ी में भी परीक्षा दे सकते हैं। 

 दोस्तो आज आपने IAS का फुलफॉर्म इन हिंदी कि जानकारी के बारे में देखा। आशा करता हूं आप सबने ये पोस्ट अंत तक जरूर पढ़ी होगी और अच्छी भी लगी होगी। अगर कुछ नया सीखने को मिला हो तो इसे शेयर करे अपने सम्बंधित लोगो के साथ। धन्यवाद आपका मूल्यवान समय इस पोस्ट को देने के लिए। इसी तरह कि और भी पोस्ट के लिए जुड़े रहिए hindikiinfo वेबसाइट पर।

Leave a Comment