NPR फुलफॉर्म इन हिंदी, NPR क्या हैं?, NPR का मतलब क्या हैं?

      Hello दोस्तो hindikiinfo वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है। आशा करता हूं आप सब बढ़िया और तंदुरुस्त होंगे। दोस्तो हमारा आज का टॉपिक हैं NPR फुलफॉर्म इन हिंदी। 

NPR फुलफॉर्म इन हिंदी,
NPR फुलफॉर्म इन हिंदी

         दोस्तो हम सब भारतवासी एक बहुत बड़े लोकसंख्या वाले देश में रह रहे हैं। आये दिन भारत सरकार देश वासियों के लिए कोई ना कोई सुविधा उपलब्ध करा रही हैं ताकि हम सब देशवासियों का जीवन सरल तरह से सफल हो। ये सभी योजनाएं भारत के हर एक नागरिक तक पहुंचने के लिए सरकार को सभी नागरिकों को जानकारी चाहिए होगी। इससे सभी नागरिकों को भारत सरकार को पहचान होने में मदद होगी। इसीलिए सरकार ने NPR बनाया हैं। तो दोस्तो आज हम जानेंगे  NPR का फुलफॉर्म इन हिंदी और NPR क्या हैं?   तो चलिए ज्यादा समय ना गवाते हुए शुरू करते हैं आज का हमरा ये नया सफर। 

NPR फुलफॉर्म इन हिंदी

NPR फुलफॉर्म इन हिंदी में एनपीआर का फुल फॉर्म “राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर” है।

             N – National (नेशनल)

             P – Population (पॉपुलेशन)

              R – Register  (रजिस्टर) 

       नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर भारत के महापंजीयक एव जनगणना आयुक्त, गृह मंत्रालय द्वारा रखा जाने वाला एक व्यापक पहचान डाटा हैं। तो इस पोस्ट में जानेंगे NPR के बारे में सविस्तर रूप में। 

 

NPR क्या हैं

         नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर देश के नागरिकों का रजिस्टर हैं। इसे नागरिकता अधिनयम 1995 और नागरिकता अधिनयम 2003 के नियमों के आधार पर स्थानीय उपजिला, जिला, राज्य राष्ट्रीय स्तर पर बनाया जाता हैं। भारत के हर नागरिक को नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर में पंचानिय होना अनिवार्य हैं। 

        एनपीआर के तहत नागरिक कि जो परिभाषा हैं, उसके हिसाब से को व्यक्ति पिछले 6 महीने से या उससे ज्यादा समय से उस स्थानिक जगह या क्षेत्र में निवास के रहा है या उससे कम पर उस स्थानिक क्षेत्र में निवास करने की इरादा रखता हो उसे उस जगह का नागरिक माना जाएगा। 

         जैसे बताया था कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर का उद्देश्य असली लाभार्थियों को सरकारी योजनाओं कि पहुंच तक पहुंचना होता हैं। जिसके लिए देश में रहने वाले नागरिकों कि पहचान का एक व्यापक डाटाबेस तैयार किया जाता हैं। इस डाटाबेस में जनसांख्यिकी जानकारी दर्ज कि जाती हैं। 

NPR को क्यों बनाया गया था? 

           पहली बार नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर वर्ष 2010 में तैयार हुआ था अब 10 साल बाद फिर से इसे अपडेट किया जाएगा। केंद्र सरकार 2021 कि जनगणना और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर 1 अप्रैल 2020 को अपडेट करने का फैसला लिया गया था पर इस महामारी के चलते अभी तक नहीं हो पाया। इस जनगणना और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के अपडेट के लिए सरकार केबिनेट बैठक बिठा कर उस पर चर्चा करती हैं। 

           NPR में भारत के नागरिकों से 15 जानकारी मांगी जाती हैं और इसी जानकारी के आधार पर राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर अपडेट किया जाता हैं। दोस्तो जानते हैं कि क्या जानकारी पूछते हैं। 

 

         NPR के लिए व्यक्ति का नाम, परिवार के मुखिया ज साथ उसका संबंध। उनके माता पिता का नाम, वैवाहिक स्थिति, विवाहित होने प्र उनके पति/पत्नी का नाम, लिंग, जन्मस्थान, वर्तमान पता, नागरिकता, स्थायी पता, पते पर रहने कि अवधि, शैक्षणिक योग्यता, पेशा कि जानकारी देनी पड़ती हैं। इसके अलावा भी कुछ जानकारी के लिए भी पूछा जा सकता हैं। जैसे कि पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, और आधार के बारे में। 

         देश में हर दस साल बाद जनगणना कि जाती है।  देश में अब आठवीं बार जनगणना होने जा रही हैं। हमारे देश कि आज़ादी कि बाद देश में पहली जनगणना 1951 में हुई थी। पिछली जनगणना साल 2011 में हुई थी। फिलहाल 2021 जनगणना का काम चल रहा हैं।  

          दोस्तो आज आपने NPR का फुलफॉर्म इन हिंदी कि जानकारी के बारे में देखा। आशा करता हूं आप सबने ये पोस्ट अंत तक जरूर पढ़ी होगी और अच्छी भी लगी होगी। अगर कुछ नया सीखने को मिला हो तो इसे शेयर करे अपने सम्बंधित लोगो के साथ। धन्यवाद आपका मूल्यवान समय इस पोस्ट को देने के लिए। इसी तरह कि और भी पोस्ट के लिए जुड़े रहिए hindikiinfo वेबसाइट पर।

Leave a Comment