SDM फुलफॉर्म इन हिंदी, SDM कि जानकारी इन हिंदी

Hello दोस्तो hindikiinfo वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है। आशा करता हूं आप सब बढ़िया और तंदुरुस्त होंगे। दोस्तो हमारा आज का टॉपिक हैं SDM फुलफॉर्म इन हिंदी । 

         दोस्तो कहीं बार ऐसा होता हैं कि हमारा कुछ सरकारी काम किसी कारण से हो नहीं रहा होता हैं और जब किसी कि सलाह मांगते हैं तो वो SDM के पास जाने कि सलाह देते हैं। SDM कि अनुमति मिलने के बाद वो काम तुरंत पूर्ण हो जाता हैं। ऐसे में किसी के भी मन में ये सवाल आएगा कि आखिर इतनी बड़े औधे कि पोस्ट पर नौकरी मिल जाए। आखिर क्या होता हैं ये औधा, कोन कोनसे अधिकार होते हैं SDM के पास, आखिर इसका पूरा अर्थ क्या होता हैं, और SDM कैसे बने? ये सभी बाते हम आज इस पोस्ट में जानेंगे दोस्तो। आशा करता हूं आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ेंगे और समझेंगे भी। तो चलिए ज्यादा समय ना गवाते हुए शुरू करते हैं आज का हमारा ये नया सफर। जीवन में सभी लोग कामयाबी कि ऊंचाइयों तक जाना चाहते हैं। कोई डॉक्टर, कोई इंजिनियर, कोई आर्मी, कोई UPSC,SSC जैसी परीक्षा दे कर उच्च स्तर कि नौकरी, या कोई SDM भी बनाना चाहता होगा। 

दोस्तो देखा जाए तो भारत कि जनसंख्या जिस दर से बढ़ रही हैं उतनी ही तेजी से सरकारी नौकरी पाने कि प्रतिस्पर्धा भी बढ़ रही हैं।  किसी निचले स्तर कि नौकरी पाना भी आज के समय में कठिन होता जा रहा है। SDM तो बहुत ऊंचे स्तर कि पोस्ट होती हैं। जिसके लिए आपकी लगन और मेहनत ही आपको वहा तक पहुंचाएगी। 

SDM फुलफॉर्म इन हिंदी

  • S – Sub (सब)
  •  D – Divisional (डिविजनल)
  • M – Magistrate (मेजिस्ट्रेट)

        हिंदी में SDM को उप प्रभागीय न्यायाधीश कहा जाता है।  SDM एक उच्च स्तर का सरकारी अधिकारी का पद होता हैं। प्रशासनिक सेवा में सबसे ऊपर का पास SDM का ही होता हैं। हर राज्य के जिलों को कहीं सारे उपखंडों में विभागा जाता हैं इन्हीं छोटे उपखंडों का नेतृत्व एक SDM अधिकारी करता हैं। हर उपखण्ड में में उसके क्षेत्र के हिसाब से एक या उससे ज्यादा तहसील कार्यालय हो सकते हैं। SDM का अपने विभाग के उपखंडों में आने वाले तहसीलदारों पर सीधा नियंत्रण होता हैं। जिले के जिला अधिकारी और उसके उपखण्ड के तहसीलदारों के बीच में पत्राचार का एक चैनल होता हैं। 

         अपने क्षेत्र के सभी भूमिगत कार्य एक SDM अधिकारी करता हैं। इसके अलावा भी कई और क्षेत्र भी SDM अधिकारी के हद में आते हैं, जिस पर उसका अधिकार होता हैं। वाहनों और विवाह का पंजीकरण, चुनाव के काम, राजस्व कामकाज, राजस्व समारोह, हथियार लाइसेंस, एससी/एसटी, ओबीसी और डोमेसाइल जैसे प्रमाणपत्रों को जारी करना जैसे महत्वपूर्ण काम एक SDM अधिकारी करता हैं। 

SDM कि सैलरी और SDM को मिलने वाली सुविधाए 

       दोस्तो SDM एक उच्च स्तर का पद होता हैं इसीलिए इसकी सैलरी भी अच्छी खासी होती हैं। अच्छी खासी सैलरी के साथ साथ अदर भी बहुत मिलता हैं। एक SDM अधिकारी कि प्रति माह कि सैलरी 50 हजार से लेकर 1 लाख तक भी होती है, इसी सैलरी के साथ साथ उनको और क्या क्या सुविधाए मिलती हैं आयीए जानते हैं 

  • बिना किसी कीमत में या फिर बहुत ही मामूली कीमत में सरकार कि तरह से रहने को घर मिलता हैं। 
  • घर के सुरक्षा के लिए गार्ड्स और घर के कामकाज के लिए नौकर भी मिलते हैं।
  • राज्य में सरकारी काम से किसी भी यात्रा में रहने के लिए अच्छे आवास कि सुविधा मिलती हैं। 
  • गाड़ी के साथ साथ ही एक चालक भी मिलता हैं। 
  • SDM के जीवनसाथी कि पेंशन कि सुविधा भी मिलती हैं। 
  • मोबाइल कनेक्शन जिसका खर्चा सरकार भर्ती हैं। 

SDM कैसे बने ? 

   राज्य प्रशासनिक सेवाओं में जो उच्च स्तर कि नौकरियां हैं उनमें से एक SDM अधिकारी का पद भी हैं। समाज में एक SDM अधिकारी आदर, सम्मान और प्रतिष्ठा के साथ अपना जीवन बिताता हैं। हर राज्य में SDM अधिकारी का चयन करने के लिए प्रशासनिक सेवाओं में परीक्षा का आयोजन किया जाता हैं। SDM  पोस्ट पाने के दो तरीके होते हैं।

  1.   UNION PUBLIC SERVICE COMMISION (UPSC)

Sub Divisional Magistrate यानी उप प्रभागीय न्यायाधीश बनाने का पहला तरीका हैं आपको UPSC परीक्षा सफल रूप से क्लियर करना होगा। जिसके लिए आपको अपना ग्रेजुएशन पूर्ण करना आवश्यक हैं। आप किसी भी विषय के साथ अपनी ग्रेजुएशन कि पढ़ाई पूरी करके ग्रेजुएट हो सकते हैं। UPSC पास करने के IAS अधिकारी को शुरुवात में SDM अधिकारी कि ही पोस्ट मिलती हैं। कुछ सालों कि सेवा के बाद उनकी पदोन्नति DM के पद पर होती है। 

  1. STATE PSC EXAM 

  उप प्रभागीय न्यायाधीश बनाने का दूसरा        तरीका हैं State PSC Exam को क्लियर   करना। इस परीक्षा में बैठने के लिए आपको स्नातक तक कि पढ़ाई पूरी करनी होगी। State PSC Exam देने के बाद अगर आपका टॉप रैंक आता हैं तो आप ट्रेनिंग के बाद सीधा SDM अधिकारी बन सकते हैं। 

  अगर मानो कोई State PSC Exam तो क्लियर कर देता हैं पर उसका टॉप रैंक में नंबर नहीं आता फिर भी वो SDM बन सकता हैं। State PSC Exam क्लियर करने के बाद नायाब तहसीलदार का पद मिलता हैं और 10-20 साल के कर्यसेवा में उसकी पदोन्नति SDM  पद पर होती हैं और इस तरीके से वो SDM बन सकता हैं।

हर साल बहुत से उम्मीदवार SDM के पोस्ट के लिए तैयारी करते हैं और परीक्षा देते हैं पर बहुत सारे लोग इस कोशिश में अधिकतर फेल भी हो जाते हैं। इसका सबसे अहम कारण होता हैं उनको SDM के बारे में सही से जानकारी ना होना। आशा करता हूं आप सब ने इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ा होगा और आपको कुछ महत्वपूर्ण जानकारी भी मिली होगी। 

         दोस्तो आज आपने SDM का फुलफॉर्म इन हिंदी कि जानकारी के बारे में देखा। आशा करता हूं आप सबने ये पोस्ट अंत तक जरूर पढ़ी होगी और अच्छी भी लगी होगी। अगर कुछ नया सीखने को मिला हो तो इसे शेयर करे अपने सम्बंधित लोगो के साथ। धन्यवाद आपका मूल्यवान समय इस पोस्ट को देने के लिए। इसी तरह कि और भी पोस्ट के लिए जुड़े रहिए hindikiinfo वेबसाइट पर।

Leave a Comment